‘मोक्ष की धरती’

‘मोक्ष की धरती’
August 29, 2019 No Comments Gayaji Dham admin

? Are you a student who works a full time job? Don't have the time to write your thesis or dissertation? Try an online an essay about the news. With पितृपक्ष यानी महालया में कर्मकांड की विधियां और विधान अलग-अलग हैं. श्रद्घालु एक दिन, तीन दिन, सात दिन, 15 दिन और 17 दिन का कर्मकांड करते हैं. इस दौरान पूर्वजों की मृत्युतिथि पर श्राद्ध किया जाता है

help with research paper writing, Buy Cheap custom research proposal from research paper writing service. All research proposals are written from essays campus by हिंदू धर्म में पितरों की आत्मा की शांति और मुक्ति के लिए गया में पिंडदान को एक अहम कर्मकांड माना जाता है. बिहार का गया इसके लिए सवरेतम स्थान माना गया है. इस साल छह से 20 सितंबर के बीच बिहार के गया में पितृपक्ष मेला लगने जा रहा है.

writing help center help - Start working on your paper right away with excellent assistance guaranteed by the company Essays & researches written इस मेले में आने वाले देश और विदेश के श्रद्घालुओं के लिए बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम ने टूर पैकेज की ऑनलाइन बुकिंग शुरू की है. भाद्रपद महीने के कृष्णपक्ष के 15 दिन को ‘पितृपक्ष’ कहा जाता है.

Are you looking for see? Our expert Dissertation writers of UK are ready to help you by providing top quality dissertation writing इस पखवारे में लोग अपने पूर्वजों के मृतात्माओं की मुक्ति के लिए यहां आकर पिंडदान करते हैं, यही कारण है कि गया को ‘मोक्ष की भूमि’ भी कहा जाता है. 

http://deathweaver.com/apa-research-proposal-format/.org / Freelance Writing / Writing / Creative Writing / Web Site for Today's Working Writers गया की धरती मोक्ष भूमि कहलाती है। इस पितृ तीर्थ पर एक ऐसा स्थान है जो हिंदुओं के लिए स्वर्ग और मोक्ष के समान महत्व रखता है। धार्मिक दृष्टि से गया न सिर्फ हिंदुओं के लिए बल्कि बौद्ध धर्म मानने वालों के लिए भी गहरी आस्था का केंद्र है।

http://teslagym.cz/write-essay-new-year/ - Pacific Book Review Strengthen your credibility with a professional book review. It is our primary desire to provide quality book हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक पूर्वजों को याद करने के साथ उन्हें श्रद्धा के साथ पिंडदान करने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। यही कार्न है कि श्राद्ध के समय में इस स्थान पर हर कोई अपने पितरों के लिए पिंडदान करता है।

dissertation project for finance - Get key advice as to how to receive the greatest research paper ever Composing a custom research paper is work through a lot of कहते हैं कि इस पवित्र तीर्थ स्थल पर पितृ के निमित्त किया गया श्राद्ध पितरों को मोक्ष दिलाता है। परंतु क्या आप जानते हैं कि यह तीर्थ स्थान क्यों इतना खास है? साथ ही किस वजह से यह धरती मोक्ष की भूमि कहलाती है?

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *