गया में श्राद्ध से ‘पितृऋण’ से मिलती है मुक्ति

admin | Mar/ 5/ 2019 | 0

वैदिक परंपरा और हिंदू मान्यताओं के अनुसार सनातन काल से ‘श्राद्ध’ की परंपरा चली आ रही है। माना जाता है प्रत्येक मनुष्य पर देव ऋण, गुरु ऋण और पितृ (माता-पिता) ऋण होते हैं। पितृण से मुक्ति तभी मिलती है, जब