We are specialist, all we do

Pitri Paksha, also spelt as Pitru paksha or Pitri paksha is a 16–lunar day period in Hindu calendar when Hindus pay homage to their ancestor (Pitrs), especially through food offerings. The period is also known as Pitru Pakshya, Pitri Pokkho, Sola Shraddha (“sixteen shraddhas”), Kanagat, Jitiya, Mahalaya Paksha and Apara paksha.

Gayadham

Introduction: Gaya is holy city of India which is known as Gaya Dham, Gayaji Dham, Gaya Keshtriya, Moksha Dham of . As per Gayapuran – Gaya is named after the name of Gayasur the son of the famous Tripurasur, Prabhbati was

About Sharadh

गया-जी-श्राद्

गया जी तीर्थ है। हिन्दू धर्मावलंबियों का विश्वास है कि पिंडदान करने से उनके पितरों को स्वर्गलोक में स्थान मिलेगा। मेरे अनेक मित्र मुझसे जानकारियाँ माँगते रहते हैं।मुझे भी यहाँ रहते हुए 20 साल से ऊपर हो गए। चूँकि मैं

OUR SERVICES

गया-जी-श्राद्

गया जी तीर्थ है। हिन्दू धर्मावलंबियों का विश्वास है कि पिंडदान करने से उनके पितरों को स्वर्गलोक में स्थान मिलेगा। मेरे अनेक मित्र मुझसे जानकारियाँ माँगते रहते हैं।मुझे भी यहाँ रहते हुए 20 साल से ऊपर हो गए। चूँकि मैं

नारायण बलि

यह दोषी पीढ़ी दर पीढ़ी कष्ट पहुंचाता रहता है, जब तक कि इसका विधि-विधानपूर्वक निवारण न किया जाए। आने वाली पीढ़ीयों को भी कष्ट देता है। इस दोष के निवारण के लिए कुछ विशेष दिन और समय तय हैं जिनमें

त्रिपिंडी

नमो नारायण। ‘ त्रिपिण्डी श्राद्ध ‘ जैसा कि नाम है ,वैसा उसका सहज अर्थ आप कर सकते है ।त्रयाणाम पिंडाणाम समाहारः त्रिपिंडी इस व्युत्प्ति के अनुसार इस श्राद्ध में तीन पिंड होते है ।जो लोग विधिवत श्राद्ध नही करते या

पितृ-दोष

पितृ दोष लक्षण,कारण एवं निवारण बहुत जिज्ञासा होती है आखिर ये पितृदोष है क्या? पितृ -दोष शांति के सरल उपाय क्या है? आपकी जिज्ञासा को शांत करने हेतु यह आलेख प्रस्तुत किया है । हमारे जन्म के साथ ही हमारे

कुंडली पितृ दोष

जीवन की उन्नति में तमाम चीजें बाधा उत्पन्न करती हैं. कुछ दोष जाने पहचाने होते हैं और कुछ अज्ञात. इन्ही अज्ञात दोषों में से एक दोष है- पितृ दोष. आम तौर से यह योग राहु से बनता है. राहु की

कालसर्प दोष

कुंडली में 12 तरह के कालसर्प दोष होने के साथ ही राहू की दशा, अंतरदशा में अस्त-नीच या शत्रु राशि में बैठे ग्रह मारकेश या वे ग्रह जो वक्री हों, उनके चलते जातक को कष्टों का सामना करना पड़ता है।

We provide services for all kinds of Pind Daan in Gaya ji – +91-9934-4946-60

We ensure value-creating counselling by combining our in-depth knowledge of the legal framework in Denmark and our understanding of the business side of the matters.

Book Online Now

Our Work

Book Appointment

Fill the below form to contact us

Recent Posts

पितृ-पक्ष - श्राद्ध पर्व तिथि व मुहूर्त 2019 - 7 से 21 सितंबर , पूर्णिमा श्राद्ध – 7 सितंबर 2019,सर्वपितृ अमावस्या – 21 सितंबर 2019

Mar 06
2019


0

भगवान राम ने किया था

भगवान राम ने किया थायहां दशरथ का पिंडदान, जानें कौन सी है वह जगह और क्या है महत्व वैदिक परंपरा और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार पितरों के लिए श्रद्धा से श्राद्ध करना एक महान और उत्कृष्ट कार्य है. मान्यता के

[...]
Mar 05
2019


0

गया में श्राद्ध से ‘पितृऋण’ से मिलती है मुक्ति

वैदिक परंपरा और हिंदू मान्यताओं के अनुसार सनातन काल से ‘श्राद्ध’ की परंपरा चली आ रही है। माना जाता है प्रत्येक मनुष्य पर देव ऋण, गुरु ऋण और पितृ (माता-पिता) ऋण होते हैं। पितृण से मुक्ति तभी मिलती है, जब

[...]
Mar 04
2019


0

पितृ-पक्ष – श्राद्ध 2019

हिंदू धर्म में वैदिक परंपरा के अनुसार अनेक रीति-रिवाज़, व्रत-त्यौहार व परंपराएं मौजूद हैं। हिंदूओं में जातक के गर्भधारण से लेकर मृत्योपरांत तक अनेक प्रकार के संस्कार किये जाते हैं। अंत्येष्टि को अंतिम संस्कार माना जाता है। लेकिन अंत्येष्टि के

[...]
YOU CAN CONNECT US 24×7